हैदराबाद में मिला ‘मिस्ट्री वायरस’, मरीज में दिखते हैं ऐसे लक्षण…

स्वाइन फ्लू , इन्फ्लूएंजा और एडेनो वायरस जैसे लक्षणों वाली एक तीव्र वायरल बीमारी हैदराबाद (Hyderabad) में फैल रही है, जो बच्चों या वयस्कों को प्रभावित कर रही है. वायरस की अभी तक पहचान नहीं हुई है और कई लोग जो स्वाइन फ्लू, कोविड-19 या इन्फ्लुएंजा (Covid-19 or influenza) के लिए परीक्षण कर रहे हैं, उनकी रिपोर्ट नकारात्मक आ रही है.

हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि इस रहस्यमय बीमारी से ठीक होने की दर 100% है और मरीजों को ठीक होने में 5 दिन लग रहे हैं, जो कि वायरल संक्रमण के लिए सामान्य रिकवरी समय है. इसके लक्षणों में नाक बहना, गले में खराश, सूखी खांसी, शरीर में दर्द के साथ बुखार और सांस लेने में कठिनाई शामिल है.

पिछले 6-8 सप्ताह से तीव्र ज्वर संबंधी वायरल बीमारी देख रहे हैं और हमने इन रोगियों में कोरीज़ल लक्षण दिख रहे हैं. यह वायरस 100 में से 6-7 लोगों को प्रभावित कर रहा है और इनमें से 50% बच्चे हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पूरी तरह विकसित नहीं होती है. अन्य 50% मरीज सीओपीडी (जिसे धूम्रपान करने वालों का अस्थमा भी कहा जाता है), पोस्ट टीबी और कोविड से नष्ट हुए फेफड़े और अस्थमा जैसी फेफड़ों की बीमारियों से पीड़ित हैं.

इस रहस्यमय वायरस के लक्षण नाक बहने से शुरू होते हैं, इसके बाद गले में खराश, सूखी खांसी, शरीर में दर्द के साथ बुखार और सांस लेने में कठिनाई होती है. इनमें से 1-2% रोगियों को श्वसन विफलता का अनुभव हुआ है. लक्षण ऊपरी श्वसन पथ को प्रभावित करते हैं और धीरे-धीरे निचले श्वसन पथ को भी प्रभावित करते हैं. इन्फ्लूएंजा ए और बी, स्वाइन फ्लू – एच1एन1, एवियन फ्लू – एच3एन2 और डेंगू के लिए भी परीक्षण चला रहा है. सांस से जुड़ी बीमारी के लिए ओसेल्टामिविर, एक एंटी-वायरल दवा दिया जा रहा है. मरीजों को पानी अधिक लेने की सलाह दी जा रही है.

इस रहस्यमय वायरस के लिए सावधानियों में खांसते या छींकते समय नाक और मुंह को ढंकना या एन95 मास्क का उपयोग करना, लोगों से दूरी बनाए रखना, नियमित रूप से साफ-सफाई करना, इन्फ्लूएंजा के खिलाफ टीकाकरण और तत्काल अलगाव जरूरी है. यह रहस्यमय वायरस एडेनो, कोरोना, इन्फ्लुएंजा या एमईआरएस परिवार से संबंधित हो सकता है. इसलिए इन्फ्लुएंजा ए एंड बी, एच1एन1, एच3एन2 और कोविड आरटी-पीसीआर सहित परीक्षणों के मल्टीप्लेक्स पीसीआर पैनल का सुझाव दिया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *