मध्यप्रदेश में चुनाव के नतीजों के बाद दिखे ऐसे रोचक नजारे, जिन्हें देख आप भी हो जाएंगे हैरान – देखें VIDEO

किसी ने सिर मुंडवा लिया तो किसी ने चेहरे पर कालिख पोत ली। किसी ने शर्त के एक लाख रुपए जीतकर गोशाला में दान कर दिए। कोई 300 किलोमीटर बाइक से ही भोपाल के लिए निकल पड़ा। कुछ महिलाएं तो बिना चप्पल-जूते के 70 किलोमीटर दूर शनि मंदिर दर्शन करने गईं। इनमें से कुछ लोगों ने चुनाव में पसंदीदा कैंडिडेट की जीत के लिए मन्नत मांगी थी तो किसी ने विरोधी की हार के लिए। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद प्रदेशभर से ऐसे ही रोचक नजारों की सात तस्वीरें सामने आई हैं। इन्हें देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

सीन-1

ग्वालियरः नेता का मुंह काला न हो, इसलिए अपना ही कर लिया

दतिया के भांडेर से कांग्रेस विधायक फूल सिंह बरैया ने चुनाव से पहले दावा किया था, ‘प्रदेश में भाजपा को 60 सीटें भी नहीं मिलेंगी। ऐसा हुआ तो मैं अपना मुंह काला करा लूंगा।’ भाजपा ने दो तिहाई बहुमत हासिल कर लिया। नतीजों के बाद इसका वीडियो फिर चर्चा में आ गया। इसके बाद बरैया को घेरने की कोशिशें भी शुरू हो गईं। ऐसे में ग्वालियर ग्रामीण किसान कांग्रेस के महामंत्री योगेश दंडोतिया बरैया के समर्थन में उतर आए।

दंडोतिया ने बुधवार को ग्वालियर में बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई। मीडिया के सामने ही उन्होंने जेब से स्याही निकाली और अपने चेहरे पर पोत ली। उन्होंने कहा, ‘फूल सिंह बरैया को मुंह काला नहीं करने दूंगा। इसके लिए मैंने अपना मुंह काला किया है।’
यह भी बता दें कि बरैया भी गुरुवार को भोपाल पहुंचकर अपना वचन पूरा करने के लिए मुंह काला करेंगे।


ग्रामीण किसान कांग्रेस के महामंत्री ने मीडिया के सामने अपना मुंह काला किया।

सीन-2

रतलामः यह विधायक तो बाइक से भोपाल के लिए निकल पड़े

बात रतलाम जिले की सैलाना विधानसभा सीट की है। यहां से चुनाव जीतकर भारत आदिवासी पार्टी के कमलेश डोडियार विधायक बने हैं। चुनाव जीतने के तीन दिन बाद बुधवार को सोशल मीडिया पर पोस्ट की। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम शिवराज सिंह चौहान और पुलिस को टैग किया। लिखा, ‘मैं कमलेश डोडियार, विधायक बनने के बाद बाइक से शपथ ग्रहण के पूर्व होने वाली कागजी कार्रवाई पूरी करने भोपाल के लिए निकल चुका हूं। मेरी सुरक्षा के इंतजाम किए जाएं ताकि कोई अनहोनी न हो।’
उन्होंने फेसबुक लाइव के जरिए मदद भी मांगी।

कहा- ‘मैं चुनाव में जुगाड़ के सहारे चला हूं। मैं मजदूर वर्ग से आता हूं और काफी गरीब हूं। भोपाल जाने के लिए मैंने दोस्तों को फोन किया था, लेकिन सहायता न मिल पाने पर बाइक से ही भोपाल निकल गया हूं। यदि कोई शुभचिंतक मेरी मदद कर सकते हों तो फोर व्हीलर उपलब्ध करा दें, जिससे मैं समय पर विधानसभा पहुंचकर कागजी कार्रवाई पूरी कर सकूं। मैं किसी से डरता नहीं हूं, जो भी मेरी हत्या करने या नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेगा, वो बर्बाद हो जाएगा।’

सैलाना से भोपाल करीब 330 किलोमीटर है। डोडियार बाइक से भोपाल पहुंच भी गए हैं। उन्होंने 12 हजार रुपए उधार लेकर चुनाव लड़ा था। इसे चुकाने के लिए नोतरा (आदिवासी समाज में आर्थिक मदद की प्रथा) का सहारा लिया।

सैलाना विधायक कमलेश डोडियार बाइक से ही 330 किलोमीटर का सफर तय कर भोपाल पहुंचे।

सीन-3

नीमचः मन्नत पूरी हुई तो 70 किमी पैदल चल दीं महिलाएं

एक तस्वीर नीमच जिले के जावद विधानसभा क्षेत्र से भी आई। यहां से भाजपा के ओमप्रकाश सखलेचा पांचवीं बार विधायक चुने गए हैं। शायद उनकी जीत के पीछे सगतपुरिया गांव की महिलाओं की दुआएं भी थीं। इन महिलाओं ने मन्नत मांगी थी कि अगर सखलेचा जीत जाएंगे तो वे बगैर चप्पल पहने 70 किलोमीटर दूर शनि मंदिर जाएंगी। ईश्वर ने उनकी सुन ली। सखलेचा ने कांग्रेस के समंदर पटेल को दो हजार वोट से हरा दिया।
बुधवार को गांव की करीब 15 महिलाएं डीजे की धुन पर नाचते हुए राजस्थान में सांवरा जी मंदिर के पास बने शनि मंदिर के लिए पैदल निकल पड़ीं। उनके साथ जावद जनपद अध्यक्ष गोपाल चरण भी रहे।

नीमच के जावद में महिलाएं हाथों में भाजपा का झंडा लेकर डीजे की धुन पर नाचते-गाते घर से राजस्थान स्थित शनि मंदिर के लिए रवाना हुई।

सीन-4

भिंडः नेता प्रतिपक्ष की हार पर 10 साल बाद कराया मुंडन

भिंड जिले के लहार विधानसभा क्षेत्र में रहते हैं मुन्ना विश्वकर्मा। 62 साल के मुन्ना पिछले 10 साल से साधु वेश में ही थे। दाढ़ी बढ़ी हुई, सिर के बाल भी बढ़ा लिए। वे अलग-अलग मंदिरों में समय बिताते रहे। बुधवार को उन्होंने अचानक नाई की दुकान पर पहुंचकर बाल कटवाए। शेविंग भी बनवा ली। लोगों ने पूछा तो असलियत सामने आई। पता चला- कांग्रेस लीडर व नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह के चुनाव हारने की खुशी में उन्होंने ऐसा किया है।

दरअसल, 10 साल पहले लहार बस स्टैंड के पास बने मुन्नालाल के मकान को नगर पालिका ने अतिक्रमण बताकर तोड़ दिया था। मुन्नालाल ने तत्कालीन विधायक डॉ. गोविंद सिंह पर बेवजह परेशान करने का आरोप लगाया था। उन्होंने संकल्प लिया था- ‘जब तक डॉ. गोविंद सिंह विधायक रहेंगे, तब तक बाल नहीं कटवाऊंगा। दाढ़ी भी नहीं बनवाऊंगा।’


डॉ. गोविंद सिंह के इशारे पर मेरा घर तुड़वाया गया था। मेरा संकल्प उनकी हार के बाद सिर मुंडन कराने का था, वो आज पूरा हो गया।

मुन्ना विश्वकर्मा

सीन-5

श्योपुर: कीचड़ वाली सड़क पर दंडवत कर पहुंचे मंदिर

श्योपुर में मातासूला गांव के रहने वाले किसान रामराज मीणा बुधवार को एक किलोमीटर दूर स्थित हनुमान मंदिर तक दंडवत करते पहुंचे। लोगों ने जब कारण पूछा तो सुनकर हैरान रह गए। मीणा ने बताया कि श्योपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक बाबूलाल जंडेल की जीत के लिए क्षेत्रपाल बाबा के मंदिर में मन्नत मांगी थी। अब इसे पूरा कर रहे हैं। बड़ी बात ये कि सड़क पर कीचड़ के बाद भी वे कहीं रुके नहीं।
रामराज मीणा अब गांव से करीब 15 किलोमीटर दूर मानपुर इलाके के क्षेत्रपाल बाबा के मंदिर तक दंडवत परिक्रमा लगाएंगे। इस मौके पर मंदिर में कार्यक्रम भी किया जाएगा।

विधायक बाबूलाल जंडेल की जीत के लिए प्रार्थना की थी। हालांकि प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने की भी मन्नत मांगी थी, वह पूरी नहीं हुई, लेकिन विधायक फिर से जीत गए।

रामराज मीणा

सीन-6

सीधी: अपने नेता की जीत की खुशी में 5 साल बाद मुंडन

बात 2018 विधानसभा चुनाव की है। सीधी जिले की चुरहट विधानसभा सीट से कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल चुनाव हार गए थे। इसके बाद उनके समर्थक संजय सिंह ने संकल्प लिया- ‘जब तक अजय सिंह राहुल चुनाव जीतकर विधानसभा नहीं पहुंच जाते, बाल नहीं कटवाऊंगा। दाढ़ी भी नहीं बनवाऊंगा।’ आखिरकार 2023 में संजय सिंह के संकल्प की जीत हुई। अजय सिंह राहुल चुनाव जीत गए।

इसके बाद बुधवार को वे अपने नेता अजय सिंह राहुल के घर पहुंचे। संजय ने उनके सामने ही मुंडन करवाया और दाढ़ी भी बनवाई।


संजय ने अपने नेता अजय सिंह राहुल के सामने ही मुंडन करवाया और दाढ़ी भी बनवाई।

सीन-7

छिंदवाड़ा: शर्त जीतने पर मिले एक लाख रुपए गोशाला में दान किए

21 नवंबर की बात है। छिंदवाड़ा में व्यापारी राम मोहन साहू और कमलनाथ समर्थक प्रकाश साहू के बीच शर्त लगी कि अगर भाजपा प्रत्याशी बंटी विवेक साहू चुनाव जीतते हैं तो राम मोहन 10 लाख रुपए देंगे। अगर कमलनाथ जीतते हैं तो प्रकाश साहू एक लाख रुपए देंगे। शर्त की वजह से दोनों प्रदेशभर में चर्चा में भी रहे। दोनों ने ही अपने-अपने कैंडिडेट की जीत का दावा किया। नतीजे आए तो कमलनाथ ने जीत दर्ज की।

आखिरकार, शर्त के मुताबिक मंगलवार को प्रकाश साहू ने राममोहन को एक लाख रुपए दिए। हालांकि, राम मोहन ने यह राशि गोशाला के लिए नगर निगम को दान कर दी।


छिंदवाड़ा में व्यापारी ने शर्त के एक लाख रुपए गोशाला में दान कर दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *